रात 12 बजे विदेशी लड़की के साथ हुआ ये सब, फिर सामने आई ये कहानी

विजयनगर से आईआईएम जा रही विदेशी लड़की को पहले टैक्सी ड्राइवर ने लूटने की कोशिश की, फिर नशेड़ियों ने छेड़ा।

इंदौर। पुलिस की सक्रियता से सोमवार रात इंदौर शहर शर्मसार होने से बच गया। स्टूडेंट्स एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत आईआईएम इंदौर में स्टडी के लिए फ्रांस से आई एक लड़की और दो लड़के विजय नगर से रात 12 बजे वापस आईआईएम जाने के लिए कैब में बैठे। ड्राइवर ने 27 किमी के 7 हजार किराया बताया, जब उन्होंने इतना देने से मना किया तो उसने उन्हें इंडस्ट्री हाउस के सामने उतार दिया। विदेशी लड़की को सड़क पर देख कुछ नशेड़ी उसे छेड़ने लगे। पलासिया टीआई को इसकी जानकारी लगी तो वे मौके पर पहुंचे और खुद ऑटो का किराया देकर उन्हें आईआईएम कैंपस तक सुरक्षित पहुंचाया। पुलिस की मदद पाकर स्टूडेंट्स ने टीआई और जवानों को सैल्यूट कर उनका अभिवादन किया।

– 20 साल की लूरा ग्रुजेल अपने दो साथी इमिलिएन जॉनी (22) और सायबवेन क्रिस्टेन (22) के साथ फ्रांस से यहां स्टडी टूर पर आई है। तीनों रात करीब 12 बजे इंडस्ट्री हाउस के पास खड़े थे, तभी एमआईजी की ओर से बाइक से आए तीन युवकों ने विदेशी लड़की को देख छेड़छाड़ शुरू कर दी, लेकिन वे हिंदी नहीं समझे और बार-बार आईआईएम जाने के लिए रास्ता पूछते रहे। इस दौरान नशेड़ी युवक उन्हें परेशान करते रहे। जब उन्हें खतरा महसूस हुआ तो एक स्टूडेंट ने सड़क पर आकर राहगीरों से मदद की गुहार लगाने लगा।  यह जानकारी पलासिया टीआई धैर्यशील येवले को लगी तो वे एसआई मिलिंद सुलिया और आरसी राठौर को लेकर विदेशी स्टूडेंट्स के पास पहुंचे।

एसआई ने अंग्रेजी में बात की तो पता चली परेशानी
– टीआई के मुताबिक विदेशी स्टूडेंट्स हिंदी नहीं समझ रहे थे। एसआई सुलिया (एमए इंग्लिश) ने उनसे इंग्लिश में बात की तो स्टूडेंट्स ने बताया कि वे स्टूडेंट्स एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत इंदौर आए हैं। उन्होंने आईआईएम जाने के लिए ओला कैब की थी। ड्राइवर ने वहां तक छोड़ने के 7 हजार रुपए मांगे। इतने रुपए देने से मना किया तो ड्राइवर उन्हें सड़क पर ही छोड़कर चला गया। इसी दौरान बाइक से कुछ युवक आए और लूरा को देख छेड़छाड़ करने लगे, उनका व्यवहार हमें ठीक नहीं लगा। परेशानी होने पर हमने सड़क से निकल रहे लोगों से मदद मांगी तो आप तक सूचना पहुंची।

– स्टूडेंट्स से टीआई ने कहा घबराएं नहीं, आप हमारी जिम्मेदारी हैं। फिर उन्होंने ऑटो से तीनों स्टूडेंट्स को आईआईएम पहुंचाया। ऑटो का किराया (400 रु.) खुद टीअाई ने चुकाया। पुलिस का यह व्यवहार देख तीनों स्टूडेंट्स काफी खुश हुए। उन्होंने पुलिसकर्मियों को गले लगाकर थैंक्स बोला, फिर सैल्यूट कर रिक्शा में बैठकर रवाना हो गए। यही नहीं रात सवा 1 बजे रिक्शा चालक ने पुलिस को फोन कर तीनों स्टूडेंट्स को आईआईएम के गेट के अंदर तक छोड़ने की जानकारी भी दी।
डीआईजी ने दिए मामले में जांच के आदेश
– मामले को गंभीरता से लेते हुए डीआईजी ने रात में हुए पूरे घटनाक्रम की जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कैब चालके साथ ही छेड़छाड़ करने वाले युवकों का भी पता लगाने को कहा है। साथ ही डीआईजी के निर्देश दिए हैं कि सभी थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में रह रहे विदेशियों के बारे में जानकारी एकत्रित करें। इसके अलावा उन्होंने आमजन से भी इस विदेशियों के साथ यदि कहीं कुछ गलत हो रहा है तो पुलिस को जानकारी देने की अपील की है। आदेश  के बाद पुलिस की एक टीम बुधवार को उन सभी जगह पर पहुंची जहां रात में ये घटनाक्रम हुआ था।
सीसीटीवी फुटेज निकलवाकर तलाश करवाएंगे
– एसपी अवधेश गोस्वामी ने कहा कि कैब ड्राइवर और सड़क पर उन्हें परेशान करने वाले युवकों की सीसीटीवी फुटेज निकलवाकर तलाश कर रहे हैं, जल्द ही वे सभी पुलिस गिरफ्त में होंगे। पुलिस ने उन्हें सुरक्षित भेजा, इसके लिए टीआई को भी प्रशंसा पत्र मिलेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *