जाने चुकंदर क्यों है सेहत का सिकंदर – Hindi

0
326

सेहत का सिकन्दर है चुकंदर एक वेज फल है लेकिन इसके बारे में बहुत कम लोग जानते है जिस प्रकार हम अनार को स्वास्थ्य के लिए लाभकारी मानते है उसी प्रकार चुकंदर होता है बल्कि ये अनार से भी ज्यादा फायदेमंद होता है लेकिन हमारे जहाँ लोग चुंकदर के बारे में कम ही जानते है और जो लोग जानते है वे इसका सेवन भी करते है चुकंदर को एक सब्जी के रूप में भी माना जाता है|

हमने अक्सर चुकंदर का प्रयोग सलाद और जूस के रूप में किया है। क्या आप जानते हैं इस लाल रंग के फल से शरीर को कितने फायदे मिलते हैं। चुकंदर खाने का तरीका सब्जी के रूप में इसके अलावा चुकंदर के जूस को नींबू, संतरे, सेब आदि के जूस के साथ मिलाकर भी पिया जा सकता है।

चुकंदर के पत्तों में भी आयरन, कैल्शियम और विटामिन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमें कई बीमारियों से बचाते हैं। चुकंदर के पत्तों का सेवन करने से हमारे शरीर में कभी भी खून की कमी नहीं होगी। यह सेहत के साथ-साथ सौंदर्य के लिए भी लाभदायक है। प्रतिदिन एक कप चुकंदर के पत्तों का जूस पीने से आपको कोई भी बीमारी नहीं होगी। चुकंदर की तासीर ठंडी होती है।

चुंकदर को सब्जी में सबसे लाभदायक माना जाता है. इसमें कार्बोहाइड्रेट और कम मात्रा में प्रोटीन और वसा पाया जाता है और इसका जूस सब्जियों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है यह प्राकृतिक शुगर का सबसे अच्छा स्त्रोत है चुकंदर के गुण काफी लाभकारी होते है इसमें इसे कई गुण पाए जाते है जो चुकंदर को सेहत का सिकन्दर बना देते है इसी कारण से चुकंदर को सेहत का सिकन्दर कहा जाता है|

चुंकदर में कई तत्व पाए जाते है जैसे – सोडियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम, सल्फर, क्लोरीन, आयोडीन, आयरन, विटामिन बी1, बी2 और सी पाया जाता है इसमें कैलोरी काफी कम होती है इसका जूस कई बीमारियों के उपचार में लाभदायक होता है|

चुंकदर के उपयोग से होने वाले लाभ

कब्ज और बवासीर में

मानव को सबसे ज्यादा कब्ज की परेशानी होती है कब्ज का होना मानव जाति में आम बात है ये नियमित रूप से कुछ लोगो में होती है इसके लिए चुंकदर का नियमित सेवन से कब्ज से बचा जा सकता है यह बवासीर के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है रात में सोने से पहले एक गिलास या आधा गिलास जूस दवा के तौर पर पीना फायदेमंद होता है|

रूसी होने पर 

सर्दियों में बालो में रुसी बहुत होती है और कुछ लोग तो हमेशा ही रुसी से परेशान रहते है कई उपाय करने के बाद भी कोई फायदा नहीं होता है इसके लिए चुकंदर के काढ़े में थोड़ा सा सिरका मिलाकर सिर में लगाएं या सिर पर चुकंदर के पानी में अदरक के टुकड़े को भिगोकर रात में मसाज करें सुबह बालों को धो ले इससे जल्द ही राहत मिलेगी|

एनीमिया में 

चुकंदर एनीमिया के उपचार में विशेष रूप से उपयोगी होता है चुकंदर का जूस मानव शरीर में खून बनाने की प्रक्रिया में उपयोगी होता है आयरन की प्रचुरता के कारण यह लाल रक्त कोशिकाओं को सक्रिय और उनकी पुर्नरचना करता है इसके सेवन से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है|

सुस्ती और थकान दूर करने में

आज के समय में काम ज्यादा होने से किसी के भी पास इतना समय नहीं होता है की वे खुद को आराम दे सके और सुस्ती थकान को कम कर सके इसलिए रोजाना चुकंदर का जूस पीने से सारे दिन की सुस्ती और थकान दूर हो जाती है और शारीर को ऊर्जा भी मिलती है|

हृदयरोग में उपयोगी

चुकंदर में मौजूद पोटेशियम स्ट्रोक से बचाने में मदद करता है चुकंदर के बीटासायनिन एल.डी.एल. कॉलेस्टेरोल को ऑक्सीडाइज होने के रोकते है, जिससे धमनियों की भित्तियों में फैट्स जमा नहीं हो पाते हैं और हर्ट अटेक और स्ट्रोक का जोखिम कम होता है होमोसिस्ट्रीन रक्तवाहिकाओं को क्षतिग्रस्त करता है और बीटेन शरीर में होमोसिस्ट्रीन के स्तर को कम करता है।

कैंसर का भक्षक

चुकंदर ल्यूकीमिया और कैंसर के उपचार में बहुत प्रभावशाली पाया गया है यह यकृत, गुर्दा, पित्ताशय, रक्त और लिम्फ का शोधन करता है चुकंदर में बीटालेन प्रजाति के एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेट्री तत्व होते हैं जो कैंसर कोशिकाओं का भक्षण करते हैं बीटासायनिन डी.एन.ए. म्यूटेशन को बाधित करते हैं इसमें एक बीटेन नाम का कैंसररोधी एमाइनो एसिड होता है|

अन्य बीमारियों के लिए

चुंकदर के सेवन से उच्च रक्तचाप, दिल की बीमारियों और पांव की नसों के लिए उपयोगी होता है किडनी और पित्ताशय विकार में चुकंदर के रस में गाजर और खीरे के जूस को मिलाकर पीना उपयोगी होता है चुंकदर को किसी भी बीमारी के बिना भी आप ले सकते है ये किसी दावा जैसा नहीं है जिसे आप बीमारी पर ही ले|

डायबिटीज में सहयोगी

चुंकदर में कोर्बोहाइड्रेट पाया जाता है और इसमें फैट्स बिलकुल नहीं होते और कैलोरी भी कम होती है जो की डायबिटीज को कम करने में सहायक होती है चुंकदर में ग्लायसीमिक लोड होने के कारण कोर्बोहाइड्रेट बहुत धीरे ग्लूकोज में परिवर्तित होते हैं और इस तरह रक्तशर्करा के स्तर को स्थिर रखते हैं।

चुंकदर खाने से होने वाले नुकसान

आयरन और कॉपर की अधिकता

चुंकदर में कॉपर और आयरन की अधिकता अधिक होती है जिससे शारीर को नुकसान होता है और शारीर में कॉपर और आयरन की आधिकता बीमारी का कारण बन सकती है|

बिटुरिया

अधिक मात्रा में चुंकदर के सेवन से यूरीन और खून में रंग की समस्या हो जाती है ऐसा बहुत ही अधिक चुंकदर के सेवन से होता है इस बीमारी को बिटुरिया कहा जाता है लेकिन यह साइड इफेक्‍ट कई लोगों में दहशत पैदा कर सकता है और इसका मुख्य कारण सिर्फ आपके शारीर में चुंकदर के होने से होता है|

हड्डियों के लिए हानिकारक

चुंकदर का अधिक सेवन करने से हड्डियों को नुकसान हो सकता है इसका अधिक उपयोग करने से शारीर में कैल्शियम के स्तर को कम हो जाता है जिसके कारण हड्डियों की परेशानी हो जाती है जो बहुत हानिकारक होती है|

यहाँ चुंकदर का सेवन लाभदायक है वहीँ चुंकदर का सेवन हानिकारक भी है इसीलिए इसका सेवन हफ्ते में केवल तीन से चार बार ही करना चाहिए तो चुंकदर आपके लिए लाभदायक होगा|

LEAVE A REPLY